Author: Anjana Paudel

मेरी भावनाएँ

मेरा हृदयका सुन्यताकी हाल कव और कैसे मालुम होगा आपको जव मे ही अनभिज्ञता मे आपकी मोहकताकी खुस्वू ले रही हूँ बस् एक अजनवीकी तरह आपकी साम्ने मे से आपका महेकताहूवा गुलावी हावाकी झोक्कैा से आपने आपको खो रहि हूँ ल‌ंकेका सुनाैकी तरह भिखारीकी भिख की तरह वेजुवान राेवर्टकी तरह तमन्नाकाे लेकर वस् एक नदी …

Read More मेरी भावनाएँ